इसरो ने अंतरिक्ष में एक और इतिहास रचा, EMISAT का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण

भारत ने अतंरिक्ष में एक और उपलब्धि हासिल कर ली हैं. ISRO ने इतिहास रचते हुए दिया एमिसैट सैटेलाइट लॉन्च कर दिया है. एमिसैट का प्रक्षेपण रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) के लिए किया गया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अनुसार, आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा रॉकेट पोर्ट पर सुबह 6.27 बजे उल्टी गिनती शुरू हुई. एमिसैट के साथ रॉकेट तीसरे पक्ष के 28 उपग्रहों को ले गया और तीन अलग-अलग कक्षों में नई प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन भी किया.
एमिसैट के अलावा इसरो ने अपने रॉकेट के जरिए दूसरे देशों के भी 28 सैटलाइट्स अंतरिक्ष की कक्षा में स्थापित किए. इनमें अमेरिका के 24, लिथुआनिया का 1, स्पेन का 1 और स्विट्जरलैंड का 1 सैटलाइट शामिल है. यह इसरो का 47वां पीएसएलवी प्रोग्राम है. पहले रॉकेट ने 749 किलोमीटर की कक्षा में EMISAT को स्थापित किया. इसके बाद 504 किलोमीटर ऑर्बिट पर 28 अन्य सैटलाइट्स को लॉन्च किया गया.
आम लोंगो की मौजूदगी में इसे लॉन्च किया गया हैं और 5000 लोगों को बैठने के लिए एक गैलरी तैयार कि गई थी. इसरो के अध्यक्ष ने कहा है, हम चार स्ट्रैप ऑन मोटर्स के साथ एक पीएसएलवी रॉकेट का इस्तेमाल करेंगे। इसके अलावा पहली बार हम तीन अलग-अलग ऊंचाई पर रॉकेट के जरिए ऑर्बिट में स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: