वाराणसी: स्टिंग में खुलासा, तेज बहादुर का पर्चा साजि़श के तहत ख़ारिज किया गया था।

पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी संसदीय लोकसभा सीट से ताल ठोक रहे बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर का पर्चा साजिश के तहत ख़ारिज़ किया गया था. इस साज़िश का खुलासा हाल ही में एक स्टिंग ऑपरेशन में हुआ है. खुफिया कैमरे में चुनाव पर्यक्षक अधिकारी ने कबूला की हम 48 घंटे तक तेज़ बहादुर के पर्चा को ख़ारिज़ करने की वजह ढ़ूंढते रहे.
इससे पहले तेज़ बहादुर के वकील ने भी दावा किया था, पर्यक्षक ने बनारस के जिलाअधिकारी के सामने कहा था तेज बहादुर का पर्चा ख़ारिज़ करना है. हालांकि पर्चा ख़ारिज़ होने के बाद तेज़ बहादुर ने भी कहा था मुझे जान बूझकर चुनाव नहीं लड़ने दिया जा रहा है.
कौन है तेज़ बहादुर
आप को बतादें कि, दो साल पहले बीएसएफ़ जवान तेज बहादुर यादव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. इस वीडियो में तेज बहादुर फ़ौजियों को मिलने वाले खाने की शिकायत कर रहे थे. वो बता रहे थे कि उन्हें कैसी गुणवत्ता का खाना दिया जाता है. तेज बहादुर ने बताया था कि अफसरों से शिकायत करने पर भी कोई सुनने वाला नहीं है यहां तक कि गृहमंत्रालय को भी चिट्ठी लिखी लेकिन कुछ नहीं हुआ.
तेज बहादुर के उस वीडियो के बाद बीएसएफ़ समेत राजनीतिक गलियारों में कुछ दिन तक हलचल मच गई थी. बीएसएफ़ ने इस मामले की जांच के आदेश दिए थे और बाद में तेज बहादुर को बीएसएफ़ से निकाल दिया गया था.

Leave a Reply

%d bloggers like this: